Featuredअजब गजब

सेना के जवानों के लिए बनाया ‘स्मार्ट जूता’, बर्फ या मलबे में दबे तो मिलेगा सिग्नल

उतर प्रदेश में एक मजदूर के पुत्र सुमित कुमार ने हमारी देश की सेना के लिए एक शानदार जूता बनाया है। इस जूते की खासियत यह है कि अगर किसी लैंडस्लाइड में कोई भी जवान बर्फ या मलबे के भीतर अगर दब जाता है तो यह जूता कंट्रोल रूम तक एक सिग्नल पहुंचा देगा जिससे उस जवान का पता लगा कर उसे आसानी से ढूंढ लिया जा सकेगा। सुमित एमआईईटी इंजीनियरिंग कॉलेज के अटल कम्युनिटी इन्नोवेशन सेंटर में B.Tech इलेक्ट्रिकल प्रथम वर्ष के विद्यार्थी हैं। मणिपुर में हुए लैंडस्लाइड के बाद उन्हें यह आइडिया सुझा और फिर उन्होंने इस जूते को तैयार कर डाला।

उन्होंने यह जूता सिर्फ सेना की मदद के मकसद से बनाया है। उनके मुताबिक यह भूस्खलन के साथ कई और मौकों पर भी सहायक साबित होगा। उन्होंने बताया कि उनका बनाया यह स्मार्ट जूता दो भागों में तैयार किया गया है. एक ओर ट्रांसमीटर सेंसर जूते के सोल में लगा हुआ है और वहीं एक दूसरा रिसीवर अलर्ट सिस्टम है जो कि सेना के कंट्रोल रूम में मौजुद रहेगा. यह रिसीवर जूते में लगे ट्रांसमीटर सेंसर से जुड़ा हुआ होगा. उन्होंने बताया कि प्रारंभिक दौर में अभी इसकी रेंज हवा में लगभग 100 मीटर है और जमीन के भीतर इसकी रेंज लगभग 3 फीट बताई गई है।

इसकी अधिक जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि किसी भूस्खलन या फ़िर हिमस्खलन के दौरान इस जूते में मौजूद सेंसर दबाव का आभास होते ही एक्टिव हो जाएगा.उसके बाद इस जूते के सेंसर से निकला सिग्नल तुरंत ही कंट्रोल रूम में एक अलार्म बजा देगा और इस तरह से इस सैनिक का स्थान पता लगाया जा सकेगा। और तो और एक और छोटे रिसीवर की मदद से उस सैनिक के नजदीक आते ही पर अलार्म काफी तेज हो जाएगा और जवान का बचाव कार्य और जल्दी आरंभ हो सकेगा।

इसमें लगने वाले खर्च के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने इस जूते को 15 से 16 हजार में बनाया है। उन्होंने कहा है कि इसमें अभी बहुत काम होना बाकी है। अगर इस जूते को अधिक मात्रा में बनाया जाए तो इसका दाम काफी कम किया जा सकेगा।

Leave a Reply

Back to top button