Study Tipsपढ़ाई

अपने पढ़ाई करने के लिये सही रूटीन कैसे बनायें? जाने यहां ।

रूटीन रहने से आपकी पढ़ाई करने की क्षमता बढ़ेगी। इससे आपको सोचना नहीं होगा कि क्या पढ़ना और कब पढ़ना है। अगर हमें अच्छे से पढ़ाई करनी है तो हमें नियबध तरीके से पढ़ाई करनी होगी। और ऐसा करने के लिए आपको एक रूटीन की जरूरत पड़ेगी । व्यवस्थित तरीके से पढ़ाई करेंगे तभी आप सभी विषयों को अच्छे से पढ़ पाएंगे। आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि कैसे आप खुद के लिए एक सही रूटीन बना सकते हैं। और अपने पढ़ाई को और भी अच्छे तरीके से कर सकते हैं।

जानें की आप दिन में कितनी देर रोज़ पढ़ाई कर सकते है और कब

रूटीन बनाने से पहले आपको यह जानना जरूरी है कि आप अपना समय कैसे व्यतीत करते हैं। और आपके पास कितना समय है जिसे आप अपने पढ़ाई में लगा सकते हैं। ऐसा भी हो सकता है कि आप लगातार पढ़ाई नहीं कर सकते हैं। आपके पास सुबह का समय हो शाम का समय हो या दोपहर का समय हो आप उसी अनुसार अपने पढ़ाई का रूटीन बनाये।

साथ में यह भी जरूरी है कि आप खाली समय हो तभी पढ़े ऐसा ना हो। जरूरत पड़ने पर आप दूसरे चीजों में बर्बाद होने वाले समय को अपने पढ़ाई में लगा सकते हैं। जैसे आप अपने मोबाइल का कम यूज कर सकते हैं ,टीवी कम देख सकते हैं और इन समय का उपयोग आप अपने पढ़ाई के लिए कर सकते हैं।

अपने ध्यान देने की छमता के आधार पर बनाये अपना रूटीन

पढ़ाई में ध्यान देने की छमता लोगों में अलग-अलग देर तक की होती है। आप अपने छमता के अनुसार ही रूटिन बनाये। क्योंकि जबतक आपका ध्यान नहीं होगा तबतक आपको चीजें जल्दी समझ मे नही आयेगी। अगर आपका ध्यान जल्दी ही पढ़ाई से हट जाता है तो आप बीच-बीच में ब्रेक लेते रहें जिससे फिर आपका ध्यान पढ़ाई में लगा रहे।

हर हाल में अपने रूटीन को फॉलो करें

ऐसा नहीं होना चाहिये कि आप जोश में आकर आप रूटीन तो बना ले लेकिन फिर उसे पूरा नही कर पाये। अगर आप पढ़ाई करने के लिए रूटिंन बनाते हैं और उसे पूरा नहीं करते हैं तो आपका रूटीन बनाना व्यर्थ है। इसलिये हर हाल में अपने पढ़ाई की रूटीन को फॉलो करें। आप अपने फ़ोन में अलार्म या टाइमर लगा सकते है जिससे आपको अपने रूटीन फॉलो करने में मदद मिलेगी।

अपने पढ़ाई के सभी विषय का आप लिस्ट तैयार करें

पढ़ाई के लिए रूटीन बनाने में यह पहला कदम है।सबसे पहले तो आप एक लिस्ट तैयार करें उन सभी सब्जेक्ट्स का जिन्हें आप को पढ़ना है इससे आपको पता चलेगा कि आपको कितना पढ़ना है और किन विषयों को पढ़ना है। साथ ही साथ आप कठिन विषयों का अलग से लिस्ट बनाएं और रूटीन में उन्हें ज्यादा समय दें।

समय सावधानी से बाटे

आप आप अपनी पढ़ाई के लिये समय सावधानी से बाटे। जिन विषय पर आपकी कमजोर पकड़ हो उन्हें ज्यादा समय दें और जिस विषय मे आपकी पकड़ कमजोर हो उसे कम वक्त दें। जैसे की विज्ञान में आपकी पकड़ कमजोर है और हिंदी में मज़बूत तो आप अपने रूटीन में विज्ञान को ज्यादा समय दे और वही हिंदी को कम। इससे आपका तालमेल बैठा रहेगा। और जो विषय कठिन लगता है उसे रूटिंन में पहले रखें।

ऐसा ही स्टडी रूटिन बनाये जिसे आप पूरा कर सकेंगें

बहुत से लोग जोश में आकर एक अविश्वसनीय रूटीन बना तो लेते है। पर फिर उसे पूरा नहीं कर पाते है इसलिए आप ऐसा ही रूटीन बनाय जिसे आप पूरा कर सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button